पीएम मोदी के भाई ने राजनाथ और अमित शाह पर उठाए सवाल, बेटी को नहीं मिला टिकट तो …

0

गुजरात में कुछ ही दिनों में स्थानीय निकाय चुनाव होने वाले हैं। जिसे लेकर प्रदेश भाजपा में हलचल शुरू हो गई है। गुजरात भाजपा प्रमुख सीआर पाटिल ने हाल ही में उम्मीदवारों के लिए आवश्यक मानदंडों की घोषणा की है। जिसमें यह घोषणा की गई है कि 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों, नेताओं के रिश्तेदारों और निगम में तीन कार्यकाल पूरा कर चुके लोगों को इस बार टिकट नहीं दिया जाएगा। इस घोषणा के बाद बेटी को चुनाव में टिकट नहीं मिलने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाई प्रह्लाद मोदी ने राजनाथ सिंह और अमित शाह पर सवाल उठाए।

बीबीसी को दिए एक साक्षात्कार में, पीएम के बड़े भाई प्रह्लाद मोदी ने कहा कि सोनल मोदी अहमदाबाद के बोदकदेव से चुनाव लड़ना चाहती, लेकिन सीआर पाटिल की घोषणा के बाद, वह इस बार चुनाव नहीं लड़ पाएंगे। इसके साथ ही, प्रह्लाद मोदी ने निकाय चुनावों के संबंध में कई मुद्दों पर अपनी राय दी।

मोदी ने राजनाथ सिंह और गृह मंत्री पर कई सवाल उठाए

बीबीसी को दिए अपने इंटरव्यू में पीएम मोदी के भाई प्रह्लाद मोदी ने कहा कि पार्टी जो भी नियम बनाती है वो पूरे भारत के सभी पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं पर लागू होती है। इसके बाद भी, राजनाथ सिंह के बेटे सांसद बन सकते हैं, विजयवर्गीय के बेटे मध्य प्रदेश में विधायक हो सकते हैं, गृह मंत्री के बेटे जय शाह को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की जिम्मेदारी दी जा सकती है। वह आगे कहते हैं, “हमें ऐसा होने की उम्मीद कभी नहीं थी।” हम पीएम मोदी की तस्वीर का इस्तेमाल कर अपना जीवन नहीं चलाते हैं। परिवार के सभी सदस्य कड़ी मेहनत करते हैं, कमाते हैं और उसी से अपना खर्च चलाते हैं।

परिवार से नहीं होती मुलाकात

इंटरव्यू में प्रह्लाद मोदी ने कहा, ‘जब से नरेंद्र भाई देश के प्रधानमंत्री बने हैं, मुझे नहीं पता कि उनके घर का दरवाजा कैसा दिखता है? यदि मुझे नहीं पता है तो मेरे बच्चों को कैसे पता चलेगा। हम उनसे तभी मिल सकते हैं, जब वो हमें आमंत्रित करें। अगर वो हमें नहीं बुलाते तो मैं उनका दरवाजे पर इंतजार नहीं कर सकता’

घर आने पर सदस्यों को निर्देश दिए जाते हैं: प्रह्लाद मोदी

प्रह्लाद बताता है कि नरेंद्र मोदी बा से मिलने आते हैं, लेकिन उनके परिवार के बाकी सदस्यों को दूर रहने की हिदायत दी जाती है। आपने देखा होगा कि जब भी वह अपनी शुरुआती यात्राओं में बा से मिलने जाते थे, तो छोटे भाई का परिवार भी पास में ही दिखाई देता था, लेकिन अब ऐसा नहीं होता है कि पिछले कुछ सालों की तस्वीरों में बा के अलावा कोई दिखाई नहीं देता है।

पीएम नरेंद्र मोदी का नाम राशन कार्ड में शामिल नहीं

मोदी जी के परिवार की सदस्यता पर, प्रह्लाद मोदी ने कहा कि भारत सरकार ने परिवार की परिभाषा तय की है। जिनका नाम घर के राशन कार्ड में है, वे केवल परिवार के सदस्य हैं, लेकिन नरेंद्र दामोदरदास मोदी का नाम हमारे राशन कार्ड में नहीं है। तो यह है कि मेरा परिवार? मैं आपसे और अन्य लोगों से भी यह सवाल पूछना चाहता हूं। अगर नरेंद्र भाई का नाम अहमदाबाद की रानी के राशन कार्ड में है, तो ऐसी स्थिति में रानी के लोग उनका परिवार बन गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here